सावरकर जैसा देशभक्त बनने के लिए राहुल को कई जन्म लेने पड़ेंगे: दिनेश शर्मा


मथुरा (स्वतंत्र प्रयाग): लखनऊ उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को वीर सावरकर जैसा देशभक्त बनने के लिए कई जन्म लेने पड़ेंगे। शर्मा ने रविवार को यहां वीर सावरकर के बारे में राहुल गांधी द्वारा की गई टिप्पणी पर संवाददाताओं से कहा कि सावरकर जैसे विराट व्यक्तित्व के लिए उन्हें देश के लिए समर्पित होना पड़ेगा।


राहुल देश के लिए कभी समर्पित नही हो सकते ,क्योंकि वह हर विषय पर पाकिस्तान की भाषा बालते है। उन्होंने कहा कि सावरकर ने अपना पूरा जीवन देश के लिए समर्पित कर दिया और उस तरफ बढ़ने से ये लोग बहुत दूर है।राहुल के रेप संबंधी बयान और उस पर माफी नहीं मांगने पर उन्होंने कहा पूरा देश कह रहा है ।


कि कांग्रेस नेता ने इस तरह का बयान देकर भारत को कलंकिंत करने का काम किया है ,उनको अपने बयान पर देश से माफी मांगनी चाहिए। यदि माफी नहीं मांगते हैं तो इसका मतलब यह है कि वे महिलाओं के साथ अन्याय कर रहे हैं। ई-एजूकेशन नेटवर्क बनाने पर जोर देने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह आवश्यक है ।


जो पठन पाठन की प्रक्रिया है उसमें समानता होनी चाहिए तथा कुछ चीजें काॅमन होनी चाहिए ,बाकी में स्वतंत्रता होनी चाहिए। इसीलिए निजी विश्वविद्यालयों के कुछ मामलों में स्वतंत्रता दी है, जिसके कारण नये नये पाठयक्रम शुरू हो रहे हैं और नई-नई विधाओं को उजागर किया जा रहा है।


राज्य में गोवश की हो रही दुर्दशा पर उपमुख्यमंत्री ने कहा कि अब गोवंश की दुर्दशा नहीं हो रही है तथा यह पहली सरकार है जो गोवंश के सरक्षण पर ध्यान दे रही है। यदि कहीं घटना घटी है तो वह उदाहरण नहीं बन सकती। आजाद भारत के इतिहास में योगी की पहली सरकार है जो कान्हा गोशाला के माध्यम से गोशाला निर्माण , उनके चारे की व्यवस्था,उनके मूत्र या गोबर से बनने वाले उपकरणों आदि को प्रोत्साहन देने का काम कर रही है।


यदि कहीं पर कोई घटना घटी हैं तो वह दुःखद है ,ऐसा नहीं होना चाहिए।प्रदेश में कानून व्यवस्था और महिलाओं पर होने वाले अपराध पर उन्होंने कहा कि यहां कानून व्यवस्था ठीक हैं, जो भी अपराधी होगा बख्शा नहीं जाएगा। सरकार पूरी तरह से सजग है। एक या दो दुःखद घटनाएं हुई हैं उनमें अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने यह भी कहा कि कानून व्यवस्था में दूसरी सरकारें कहीं नहीं टिकती हैं क्योंकि वे अपराध,भ्रष्टाचार में लिप्त थीं जबकि योगी सरकार पूरी पारदर्शिता बरत रही है।