शनिवार, 7 दिसंबर 2019

रोडवेज बस का टीआई ने किया चालान, बताए यातायात के नियम

उरई (स्वतंत्र भारत) जालौन परिवहन विभाग की बसों को मोटर स्टेंंड कैंपस में खड़ा न करना इनके चालको की आदत बन गया है और काफी देर के लिए रोड के इधर-उधर बसें खड़ी कर देते है इससे भयंकर जाम की स्थिति पैदा हो जाती है इसको थामने के लिए जिस तरह टीआई ने चालान करके और रोडवेज चालको को नियम बतायें उनके इस कार्य से जहां चालक रोष में आया और उसने विरोध प्रदर्शन किया परंतु कानून के तौर तरीके ठीक है तो निश्चित रूप से व्यवस्थायें भी चका-चक रहती है।


इस कार्यवाही से जहां बसें अंदर खड़ी होने लगेगी और जाम से लोगो को निजात मिलेंगी। आज टीआई अनिल कुमार ने अपने हमराही सिपाहियो के साथ कोच तिराहे का आकस्मिक निरीक्षण किया जिसमें उन्होने रोडवेज बसों का संचालन ठीक ढंग से होता हुआ नहीं पाया जिस पर उन्होने एक रोडवेज बस का चालान कर दिया। चालान होते हीं रोडवेज का चालक जयप्रकाश गाड़ी नंबर यू पी 93 ए टी 4825 ने अपनी शाख को धूमिल होते हुए पाया तो इससे वह आवेश में आ गया और उसने सारी सवारियां रोड पर उतार दी और गाडी ले जाने से मना कर दिया इससे साफ हो गया कि कानून एवं नियम को ताक पर रखना इनकी फितरत में है, स्पष्ट आदेश है ।


कि रोड पर वाहन खड़े न किए जायें परंतु अधिकांश रोडवेज बसें रोड पर ही खड़ी होकर सवारियां लेती एवं उतारती है जब इतना बड़ा कैंपस अंदर बना हुआ है तो वहीं सवारियां ले जाने एवं उतारने का प्रावधान होना चाहिए। रोड पर सवारियां उतरती एवं चढ़ती है इससे कभी कभी गंभीर घटनायें घटित हो जाती है। टीआई ने निष्पक्ष कार्यवाही बिना किसी दबाव के की है और इससे जहां जाम में कमी आयेगीं वहीं रोडवेज कर्मियों को इसका प्रतिष्ठा का प्वाइंट नहीं बनाना चाहिए यह सभी के हित में है और जनता के लिए जहां इस कार्यवाही से राहत महसूस होगी तो वहीं अगर जाम नहीं लगेगा तो आम लोगो को समस्यायें भी नहीं आयेंगी।


सबसे ज्यादा जाम कोच तिराहे पर लगता है और जिसके कारण लोगो को कई बार गंभीर स्थिति में अपना मार्ग बदलकर जाने के लिए विवश होना पड़ता है। हालांकि सवारियां उतारी गई और बस नहीं गई यह परिवहन विभाग के उच्चाधिकारी ही बता सकतें है कि चालक को इतनी पावर किसके द्वारा अर्जित की गई कि वों यह निर्णय लें। जहां सवारियां उतरने से राजस्व की हानि हुई है तो वहीं परिवहन की बसों में जिस तरह से नियम का उल्लंघन किया गया यह जांच का विषय है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें