शुक्रवार, 27 दिसंबर 2019

जुमे की नमाज को लेकर UP में हाई अलर्ट,लखनऊ  अलीगढ़ गाजियाबाद समेत 14 जिलों में इंटरनेट बंद 


लखनऊ (स्वतंत्र प्रयाग): शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ दोबारा प्रदर्शन शुरु होने की आशंका को लेकर कई जिलों को अलर्ट किया गया है। अफवाहों पर लगाम लगाने के मद्देनजर गाजियाबाद, मेरठ, अलीगढ़, सहारनपुर, बुलंदशहर, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, शामली, संभल, फिरोजाबाद, मथुरा, आगरा, कानपुर और सीतापुर में इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है। अलीगढ़ में रात 12 बजे से कल शाम 5 बजे तक इंटरनेट बंद रहेगा। वहीं, गाजियाबाद में इंटरनेट सेवा आज रात 10:00 बजे से कल रात 10:00 बजे तक बंद रहेगी। प्रशासन को सभी संवेदनशील स्थानों पर पुलिस, पीएसी व केंद्रीय सशस्त्र बलों की तैनाती करने का निर्देश दिया गया है। इस बीच मुस्लिम धर्मगुरुओं ने जुमे की नमाज से पहले शांति की अपील की है।              


                                                         
 
डीजीपी मुख्यालय से सभी जिलों को व्यापक कार्ययोजना बनाकर सुरक्षा प्रबंध करने के निर्देश दिए गए हैं। इसमें संवेदनशील इलाकों को जोन व सेक्टरों में बांटकर मजिस्ट्रेट व पुलिस अफसरों की तैनाती करने, भीड़ एकत्र होने की संभावना वाले मार्गों पर बैरीकेडिंग कराने तथा पैदल मार्च कर लोगों से संवाद कायम करते हुए अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील करने को कहा गया है। जिलों में थाना स्तर पर पीस कमेटी की बैठकें करने और मस्जिदों के इमामों से संपर्क कर उनसे नमाज के बाद शांति बनाए रखने की अपील करवाने को भी कहा गया है। डीजीपी मुख्यालय में बनाया गया कंट्रोल रूम भी सक्रिय हो गया है।  



नागरिकता संशोधन कानून के विरोध को लेकर बीते शुक्रवार को हिंसा के बाद अब प्रदेश सरकार हाई अलर्ट पर है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों में जिला तथा पुलिस प्रशासन ने आज से ही सतर्कता बरत दी है। बिजनौर, मेरठ, सहारनपुर, आगरा, फिरोजाबाद तथा मथुरा के साथ ही बुलंदशहर में आज से मोबाइल इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है। शुक्रवार को होने वाली जुमे की नमाज पर सभी की निगाहें हैं।नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में 10 दिसम्बर से अब तक प्रदेश के विभिन्न जिलों में विधि विरूद्ध प्रदर्शनों,आगजनी, तोड़फोड़ एवं पुलिस पर फायरिंग आदि की घटनाओं में अब तक 1113 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया जबकि 5558 लोगों को हिरासत में लेकर निरोधात्मक कार्रवाई की गई। 



पुलिस प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अब तक प्राप्त सूचनाओं के अनुसार सीएए के विरोध में सम्पूर्ण प्रदेश में हुए उग्र प्रदर्शन के दौरान हिंसा,आगजनी एवं तोड़फोड़ की घटनाओं के क्रम में प्रदेश में 19 व्यक्तियों की मृत्यु हुयी तथा 288 पुलिसकर्मी घायल हुए, जिनमें 61 पुलिसकर्मी फायर आम्र्स से घायल हुए हैं। घटनास्थलों से 647 नान प्रतिबंधित बोर (315 बोर, 12 बोर) के खोखा कारतूस, 69 जीवित कारतूस तथा 35 अवैध तमंचें भी बरामद हुए। उन्होंने बताया कि इस सिलसिले में राज्यभर में कुल 327 अभियोग पंजीकृत किये गये हैं, जिनमें अब तक 1113 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया जबकि 5558 लोगों को हिरासत में लेकर निरोधात्मक कार्रवाई की गयी है। 



यूपी में फिर हाई अलर्टउन्होंने बताया कि सम्भल जिले में 20 दिसम्बर को अपराध शाखा के निरीक्षक की पिस्टल भी उपद्रवियों द्वारा छीन ली गयी थी। इस मामले में अभियोग पंजीकृत कर विधिक कार्रवाई की जा रही है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें