जौनपुर में काकोरी काण्ड के नायक राजेन्द्र नाथ लाहिड़ी को दी गयी श्रद्धांजलि 



जौनपुर (स्वतंत्र प्रयाग): उत्तर प्रदेश में जौनपुर के सरावां गांव स्थित शहीद लाल बहादुर गुप्त स्मारक पर आज हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी व लक्ष्मी बाई ब्रिगेड के कार्यकर्ताओं ने काकोरी काण्ड के महानायक राजेन्द्र नाथ लाहिड़ी का 92 वां बलिदान दिवस मनाया। इस अवसर पर कार्यकर्ताओं ने शहीद स्मारक पर मोमबत्ती व अगरबत्ती जलाई और दो मिनट का मौन रख काकोरी काण्ड के महानायक लाहिड़ी को श्रद्धांजलि दी।शहीद स्मारक पर उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए लक्ष्मी बाई ब्रिगेड की अध्यक्ष मंजीत कौर ने कहा कि महान क्रान्तिकारी राजेन्द्र नाथ लाहिड़ी का जन्म 23 जून 1901 को बंगाल में हुआ था। देश की आजादी की लड़ाई में भाग लेने के लिए उन्होने पंडित राम प्रसाद विस्मिल, रोशन सिंह व अशफाक उल्लाह का साथ काम किया। चारो महान क्रान्तिकारियों ने उस समय नौ अगस्त 1925 को काकोरी काण्ड को अंजाम दिया तो अंग्रेजों ने चारो को सजा -ए- मौत का आदेश दिया।


चारो क्रान्तिकारियों को 19 दिसम्बर सन 1927 को फांसी देने की तिथि तय की गयी , मगर अंग्रेजों को लगा कि लाहिड़ी इनके अगुवा हैं , ये 19 दिसम्बर के पूर्व जेल में कुछ और करा सकते है, इसके लिए अंग्रेजों ने फांसी की तारीख से दो दिन पूर्व 17 दिसम्बर 1927 को ही काकोरी काण्ड के महानायक लाहिड़ी को उत्तर प्रदेश के गोण्डा जिला कारागार में फांसी पर लटका दिया। राजेन्द्र नाथ लाहिडी ने फांसी पर चढने से पहले जेलर से हंसते हुये कहा था “मैं मर नहीं रहा बल्कि स्वतंत्र भारत में पुनर्जन्म लेने जा रहा हूँ”


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुरा छात्र एवं विंध्य गौरव ख्याति समारोह बड़े शानोशौकत से हुआ सम्पन्न

प्रयागराज में युवक की जघन्य हत्या कर शव को शिव मंदिर के समीप फेंका , पुलिस ने शव को लिया अपने कब्जे में