शुक्रवार, 6 दिसंबर 2019

जनता के लिए राहत : सस्ता होने वाला है प्याज


नई दिल्ली (स्वतंत्रप्रयाग) : महंगे प्याज से त्रस्त जनता को राहत मिलने की संभावना बढ़ गई है। गृह मंत्री अमित शाह के मोर्चा संभालते ही प्याज की कीमतों में गिरावट का दौर शुरू हो गया है। आज दिल्ली की आजादपुर मंडी में प्याज का थोक भाव 82.50 रुपये प्रति किलो था, जबकि एक दिन पहले थोक भाव 85 रुपये किलो दर्ज किया गया मार्केट के सूत्रों के मुताबिक खुदरा प्याज दिल्ली-एनसीआर में 80-120 रुपये किलो बिक रहा है। मंडी के कारोबारियों के मुताबिक अगले सप्ताह से गुजरात और महाराष्ट्र से प्याज की नई फसल की आवक शुरू होने वाली है जिसके बाद कीमतों में गिरावट आ सकती है।



प्याज की कीमतों में जहां एक महीने के भीतर दोगुनी बढ़ोतरी हुई है वहीं इसके मुकाबले बाकी सब्जियों के दाम 50 फीसदी तक कम हुए हैं। टमाटर, आलू, गोभी, मटर समेत कई सब्जियों के दामों ने बढ़ती महंगाई में कुछ राहत दी है।  निरंजनपुर सब्जी मंडी में गुरुवार को थोक में प्याज 80 रुपये प्रति किलो बिका। उधर, बाकी सब्जियों के दाम में 30 से 50 फीसदी तक कमी आई है।


थोक और फुटकर में सब्जियों के दाम लगातार घट रहे हैं। मंडी इंस्पेक्टर ने बताया कि गुरुवार को थोक में प्याज 80 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बेचा गया। मंडी में 298.90 क्विंटल प्याज पहुंच पाया। थोक विक्रेताओं ने प्याज मंगवाना कम कर दिया है। उनका कहना है कि इंदौर और नासिक से प्याज की सप्लाई होने तक प्याज में तेजी रहेगी।  उन्होंने बताया कि बाकी सब्जियों के दाम लगातार घट रहे हैं।


आगे भी कुछ सब्जियों में दस फीसदी गिरावट आने की संभावना है। इससे जनता को कुछ राहत जरूर मिल रही है। आजादपुर मंडी के कारोबारी और अनियन मर्चेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र शर्मा ने बताया कि देशभर में प्याज की नई फसल की आवक अगले सप्ताह से जोर पकड़ेगी जिससे कीमतों में वृद्धि पर लगाम लगेगा। गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक और आंध्रप्रदेश से प्याज की नई फसल की आवक धीरे-धीरे जोर पकड़ रही है और दिल्ली में भी अगले सप्ताह से आवक बढऩे की उम्मीद है। उधर केंद्र सरकार द्वारा आयातित प्याज भी देश में आने वाला है


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें