बद्री नस्ल की देशी गाय का घी बिक रहा 4000 रुपये किलो, पौष्टिकता व A2 से भरपूर



आमतौर पर बाजार में देशी गाय का घी 400-500 रुपये किलो मिलता है लेकिन क्या आपको पता है कि उत्तराखंड में एक ऐसी भी  देशी गाय है जिसका 1 किलो घी खरीदने के लिए आपको 4 हजार रुपये खर्च करने होंगे। जी हां बाजार में मिल रहे 400 रुपये किलो वाले घी की जगह बद्री नस्ल की देशी गाय के घी के लिए आपको 10 गुना ज्यादा पैसे देने होंगे


दरअसल उत्तराखंड के पहाड़ी इलाके में बद्री नस्ल की देशी  गाय पाई जाती और गाय की यह नस्ल वहां तेजी से खत्म हो रही थी। इस नस्ल को बचाने में नरियालगांव पशु प्रजनन केन्द्र की मुहिम रंग लाई और अब इस नस्ल की 140 देशी गायें वहां मौजूद हैं।बद्री देशी गायों से अभी हर दिन करीब 125 लीटर दूध मिलता है और इसे पहले 25 रुपये प्रतिलीटर के हिसाब से बेच दिया जाता था।


बाद में पशु प्रजनन केन्द्र ने बद्री देशी गाय के दूध की लैब में सैम्पलिंग कराई तो लैब टेस्ट में बद्री देशी गाय के दूध में ए2 प्रोटीन के साथ अन्य पोषक तत्वों की उपलब्धता और गुणवत्ता के आधार पर पशुपालन विभाग ने इसके दूध को खरीदने के लिए निविदा आमंत्रित की. इसके बाद पशुपालन विभाग ने दूध का पेटेंट कराया जिसके बाद गाजियाबाद की एक कंपनी ने 41 रुपये प्रति किलो की दर से दूध लेना शुरू कर दिया।


इस दूध से नरियाल गांव की स्थानीय महिलाएं ही कंपनी के लिए जैविक घी तैयार करने लगीं, जिससे स्थानीय स्तर पर ही उन्हें रोजगार भी मिल गया। इस देशी गाय के घी की मांग को देखते हुए कंपनी ने ऑनलाइन बेचना भी शुरू कर दिया। चूंकि आम घी के मुकाबले इसमें ज्यादा पोषक तत्व पाए जाते हैं इसलिए इसकी कीमत 4 हजार रुपये प्रति किलो तक पहुंच चुकी है।


बता दें कि पशुपालन विभाग की सफल पहल के बाद एक बार फिर से लोग बद्री देशी गाय पालने लगे हैं। पहले गांव में लोगों ने बद्री देशी गाय को आवारा छोड़कर अधिक दूध देने वाली देशी या फिर दूसरे नस्ल की  गायों  को पालना शुरू कर दिया था।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुरा छात्र एवं विंध्य गौरव ख्याति समारोह बड़े शानोशौकत से हुआ सम्पन्न

प्रयागराज में युवक की जघन्य हत्या कर शव को शिव मंदिर के समीप फेंका , पुलिस ने शव को लिया अपने कब्जे में