शनिवार, 28 दिसंबर 2019

अभी ठंड कम होने के आसार नहीं, ज्यादा बढऩे की पूरी उम्मीद :-मौसम विभाग



नई दिल्ली (स्वतंत्र प्रयाग): पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली समेत उत्तर भारत के बाकी इलाके भीषण शीतलहर की चपेट में हैं।  राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली  में शनिवार को मौसम का सबसे ठंडा दिन दर्ज किया गया। अधिकारियों ने बताया कि सुबह न्यूनतम तापमान गिरकर 2.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।


शहर घने कोहरे की चादर में लिपटा रहा जिससे दृश्यता कम हो गई और सड़कों पर वाहनों की आवाजाही पर असर पड़ा।देखें, सर्दी से कांपा उत्तर भारत, माइनस में पहुंचा तापमान।


मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है कि 28 और 29 दिसंबर को सामान्य से अधिक सर्दी पड़ेगी। पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में 30 दिसंबर की रात से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण 31 दिसंबर और एक जनवरी को उत्तर-पश्चिमी एवं मध्य भारत में बारिश एवं ओलावृष्टि का पूर्वानुमान व्यक्त किया गया है।


हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार सहित देश में उत्तर, मध्य एवं पूर्व के अधिकांश इलाकों में अगले दो दिनों तक शीत लहर के कारण प्रचंड सर्दी व घने कोहरे का प्रकोप जारी रहेगा।


नए साल की शुरुआत में बारिश और ओलावृष्टि होने का पूर्वानुमान है। मौसम का यह मिजाज बताता है कि अब अगले साल ही जनवरी के पहले सप्ताह में कड़ाके की ठंड से कुछ राहत मिलने की उम्मीद की जा सकती है।


केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के करगिल जिले के द्रास में तापमान -20 डिग्री तक पहुंच गया है। द्रास को दुनिया के दूसरे सबसे ठंडे रिहायशी इलाके में गिना जाता है। उच्च हिमालयी इलाकों में भारी बर्फबारी से तापमान में यह जबर्दस्त गिरावट आई है।


राजस्थान में भी ठंड रेकॉर्ड तोड़ रही है। शनिवार को शेखावटी में पारा लुढ़ककर -4, जबकि सीकर में -1 पर चला गया। जबर्दस्त शीत लहर के कारण शुक्रवार को भी पारे ने रेकॉर्ड तोड़ा था। जयपुर में पारा पांच साल बाद फिर 4 डिग्री तक गिर गया। जयपुर जिले के जोबनेर में -1 डिग्री दर्ज किया गया।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें