शनिवार, 28 दिसंबर 2019

आजादी की लड़ाई में कोई योगदान नहीं देने वालें ही ,आज देश भक्ति का पाठ पढ़ाते हैं :-प्रियंका गांधी वाड्रा

 



लखनऊ (स्वतंत्र प्रयाग) - केन्द्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का नाम लिए बगैर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को कहा कि दमनकारी विचारधारा वाली शक्तियों के साम्राज्य के चलते देश में डर का माहौल है और उनकी पार्टी अहिंसा के दम पर ऐसी ताकतों के खिलाफ संघर्ष करेगी। उन्होंने ये भी कहा कि जो जिन्होंने आजादी के संघर्ष में कोई योगदान नहीं दिया वहीं आज देश भक्ति ने नाम पर अपनें आपकों देश भक्त कहते हैं।  


 



कांग्रेस के 135वें स्थापना दिवस के मौके पर पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुये श्रीमती वाड्रा ने कहा “ उन्होंने ये भी कहा कि जिन्होंने आजादी के संघर्ष में कोई योगदान नहीं दिया वहीं आज देश भक्ति ने नाम पर अपनें आपकों देश भक्त कहते हैं आज देशभक्ति के नाम पर लोगों को डराया जा रहा है। 


नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के जरिये खौफ पैदा करने की कोशिशे की जा रही है। सरकार हिंसा के दम पर छात्रों की आवाज को दबाने का काम कर रही है। ” उन्होने कहा कि देश में दमनकारी विचारधारा वाली शक्तियों का शासन है। 



ये वहीं लोग है जिन्होंने आजादी के संघर्ष में कोई योगदान नहीं दिया लेकिन आज देशभक्त बनकर हिंसा के जरिये भय का माहौल फैलाना चाहते हैं। वास्तव में कायर की पहचान हिंसा है जिनके असली चेहरे को देश की जनता ने पहचान लिया है।


कांग्रेसी नेता ने कहा कि दमनकारी शक्तियों को पता होना चाहिये कि जब जब देश में भय का माहौल फैलाया जाता है तब तब कांग्रेस का कार्यकर्ता खड़ा होता है। कांग्रेसियों के दिल में अहिंसा और करुणा का भाव हैं और इसी के दम पर वे दमनकारी शक्तियों को जड़ से उखाड़ फेंकेंगे।


उत्तर प्रदेश समेत देश के अन्य राज्यों में सीएए और एनआरसी के विरोध प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा पर उन्होने कहा कि आवाज उठाने पर बच्चों को मार रहे हैं। पहले देश में एनआरसी की बात फैलाई, अब कह रहे हैं कि एनआरसी की तो चर्चा भी नहीं है।


समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का नाम लिये बगैर उन्होने कहा कि दूसरी पार्टियां सरकार से डर रही हैं, वह कुछ नहीं कह रही हैं लेकिन कांग्रेस नये कानून के जरिये भय फैलाने वाली शक्तियों की चुनौती को सहर्ष स्वीकार करतें हुए हमने अकेले लड़ना है ।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें