उद्धव ठाकरे का फोटोग्राफर और लेखक फिर सीएम तक का सफर , पिता बालासाहेब से किया वादा पूरा किया

मुंबई (स्वतंत्र प्रयाग): शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे आज शाम छह बजकर 40 मिनट पर महाराष्ट्र की कमान संभालने जा रहे हैं। प्रोफेशनल फोटोग्राफर और लेखक रहे उद्धव ठाकरे शिवसेना को आखिरकार सीएम की कुर्सी तक पहुंचाने में सफल रहे हैं। उद्धव आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही पिता बालासाहेब ठाकरे से किया वादा भी पूरा करने वाले हैं।


आइए जानते हैं महाराष्ट्र की राजनीति को अब तक 'रिमोट कंट्रोल' से चलाने वाली शिवसेना के इस अध्यक्ष का कैसा रहा है राजनीतिक सफर....।पार्टी के संस्थापक बाला साहेब ठाकरे के बाद पार्टी की कमान संभालने वाले उद्धव ठाकरे के लिए यह बड़ी जीत का पल है। उद्धव बाल केशव ठाकरे का जन्म 27 जुलाई 1960 को मुंबई में हुआ था।


उन्हें 2003 में पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने से पहले शायद ही कोई जानता हो। राजनीति में कदम रखने से पहले उद्धव पार्टी के मुखपत्र 'सामना' का काम देखते थे। उद्धव ठाकरे प्रफेशनल फोटॉग्रफर और लेखक हैं। उनका काम दर्जनों मैगजीनों और किताबों में देखा जा सकता है।
बेटे को परिवार का पहला विधायक बना की नई शुरुआत
उद्धव की शादी व्यवसायी पिता माधव पाटनकर की बेटी रश्मि ठाकरे से 13 दिसंबर 1989 को हुई थी।


रश्मि ने 1987 में एलआईसी में काम करना शुरू किया, जहां उनकी मुलाकात एमएनएस चीफ राज ठाकरे की बहन जयवंती से हुई। बाद में रश्मि उद्धव से मिलीं। शादी के बाद दोनों के दो बेटे- आदित्य और तेजस हुए। आदित्य जहां बाबा बालासाहेब और पिता उद्धव ठाकरे के नक्शेकदम पर चलते हुए कम उम्र में ही राजनीति में आ गए, वहीं तेजस इससे ठीक उलट लाइमलाइट से दूर रहना पसंद करते हैं।


आदित्य ऐसे पहले ठाकरे भी बन गए जिन्होंने चुनावी मैदान में कदम रखा और वर्ली सीट से विजयी हुए।
2012 में बाल ठाकरे के निधन के बाद उद्धव शिवसेना के अध्यक्ष बने थे। उद्धव ठाकरे को पहली बार 2002 में बृहन मुंबई नगर निगम के चुनावों की जिम्मेदारी सौंपी गई और शिवसेना को इसमें भारी सफलता मिली।


हालांकि, इस दौरान उद्धव ज्यादातर 'सामना' को ही संभाल रहे थे। इसके बाद 2004 में बाल ठाकरे ने अपने भतीजे राज ठाकरे को दरकिनार करते हुए उद्धव ठाकरे को शिवसेना का अगला मुखिया घोषित कर दिया था।
40 साल की उम्र तक रहे राजनीति से दूर
2003 में उद्धव ठाकरे को शिवसेना का कार्यकारी अध्यक्ष घोषित कर दिया गया था।


दिलचस्प बात यह है कि इससे पहले उद्धव अपनी जिंदगी के पहले 40 साल पार्टी से दूर रहे थे और उन्हें कोई नहीं जानता था। उद्धव के पार्टी का अध्यक्ष बनने से हर कोई हैरान था। तब तक माना जाता था कि उनके चचेरे भाई राज ठाकरे इस पद पर होंगे लेकिन बालासाहेब के फैसले ने सबको हैरान कर दिया। राज ने बाद में अपनी खुद की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना बना ली। यहां तक कि पार्टी के सीनियर नेता और पूर्व सीएम नारायण राणे ने भी उद्धव से मतभेदों के चलते पार्टी छोड़ दी थी।


कट्टर छवि बदलते ही पाई कुर्सी
माना जाता है कि उद्धव ने पार्टी की कमान संभालने के बाद कट्टर हिंदुत्ववादी स्टैंड को नरम किया। शायद यही वजह रही कि कांग्रेस और एनसीपी जैसी पार्टियां विचारधारा में टकराव के बावजूद शिवसेना के साथ गठबंधन करने का फैसला कर सकीं।


इन विधानसभा चुनावों में पहली बार ठाकरे परिवार के किसी सदस्य, अपने बेटे आदित्य ठाकरे, को चुनाव के मैदान में उतारकर उन्होंने पहले ही दशकों पुरानी परंपरा तोड़ दी थी। अब सीएम पद संभालने के साथ ही पार्टी की 'रिमोट कंट्रोल' राजनीति से बाहर आकर सत्ता चलाने की जो रीत उद्धव ने चलाई है, पूरे महाराष्ट्र की नजरें इस पर टिकी रहेंगी।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुरा छात्र एवं विंध्य गौरव ख्याति समारोह बड़े शानोशौकत से हुआ सम्पन्न

प्रयागराज में युवक की जघन्य हत्या कर शव को शिव मंदिर के समीप फेंका , पुलिस ने शव को लिया अपने कब्जे में