पुलिस का आधुनिकीकरण होगा, नशा, तस्करी और अपराधों पर लगेगा अंकुश: विज

 पंचकूला (स्वतंत्र प्रयाग)- हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि राज्य की पुलिस का आधुनिकीकरण किया जाएगा जिससे वह प केवल नशा, तस्करी एवं अन्य आपराधिक गतिविधियों पर नियंत्रण रख सकेगी बल्कि पीड़ितों को भी समय पर न्याय सुनिश्चित करेगी।


विज ने आज यहां पुलिस मुख्यालय में पुलिस विभाग की पहली समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि इस बैठक के बाद प्रदेश की पुलिस महकमें में पूरी तरह बदलाव देखने को मिलेगा। उन्होंने कहा कि हालांकि वह पुलिस के प्रस्तुतिकरण से संतुष्ट हैं फिर भी पुलिस को राज्य में कानून व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए पुलिस बल तथा मोबाइल युनिट को आधुनिक उपकरणों से लैस किया जाएगा।


इससे आपराधिक गतिविधियों की आधुनिक तरीकों से जांच की जाएगी और अधिकाधिक अपराधियों को सजा दिलाने में सहायता मिलेगी। गृहमंत्री ने कहा कि पुलिस को जनता की शिकायतों का भी समय पर निपटान करना होगा अन्यथा शिकायत के सुलझाने मे देरी करने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए राज्य स्तर पर एक शिकायत निवारण कक्ष स्थापित किया गया है ।


जोकि ऐसी शिकायतों को मुख्यालय स्तर पर निपटारा कर रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा को नशा मुक्त प्रदेश बनाने के लिए खुफिया तंत्र की मदद ली जाएगी ताकि राज्य में नशा, ड्रग्स, अवैध शराब, जुआ, सट्टेबाजी, फिरौती जैसी अन्य प्रायोजित आपराधिक गतिविधियों पर तुरंत प्रभाव से कार्रवाई की जा सके। राज्य में किसी भी अपराधी द्वारा समाज को गंदा करने नहीं दिया जाएगा। इस सबंध ध में ऑपरेशन प्रहार आगामी 24 घंटों में शुरू होगा।


 विज ने कहा कि पुलिस कर्मचारियों के कल्याण के लिए एक पुलिस वेलफेयर कमेटी का गठन किया जाएगा जो पुलिस कर्मियों से सम्बंधित सभी समस्याओं तथा मांगों पर उचित कार्रवाई करेगा। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी जर्जर हालात में पड़े थानों का नवीनीकरण किया जाएगा जिसके लिए सरकार से बजट का प्रावधान होगा। इसके अलावा पुलिस कर्मियों के लिए शहरों के आसपास ही रिहायशी स्थल बनाए जाएंगे ताकि पुलिस कर्मचारियों को अपने बच्चों की शिक्षा एवं अन्य आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए दूर न जाना पड़े।


श्री विज ने अधिकारियों को राज्य के सभी थाना यातायात प्रभारियों को वाहनों की पार्किंग की समुचित व्यवस्था करने निर्देश जारी करने के आदेश दिये जिनमें उन्हें अपने थाना क्षेत्र में ऑटोरिक्षा , बसों, गाड़ियों तथा अन्य निजि वाहनों की पॉर्किग की समुचित व्यवस्था करनी होगी।गृहमंत्री ने कहा कि डायल 100 योजना का केंद्रीकरण जाएगा जो पंचकूला मुख्यालय से संचालित होगा। जनता की सुविधा के लिए राज्य के प्रत्येक थाने में शीघ्र ही 2-2 वाहन उपलब्ध कराए जाएंगे ताकि पुलिस लोगों की अपेक्षाओं पर खरा उतर सके। इसके अलावा मामलों को हल करने में तेजी लाई जाएगी तथा इसके लिए पुलिस कर्मियों तथा अधिकारियों को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। इसके बावजूद भी यदि शिकायतों का समय पर निपटान नहीं किया गया तो सम्बंधित अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले विज को पुलिस मुख्यालय पहुंचने पर गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।


बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह विभाग नवराज संधू, पुलिस महानिदेशक मनोज यादव, पुलिस महानिदेशक(अपराध) पी.के.अग्रवाल, गुप्तचर विभाग के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक(एडीजीपी) अनिल राव, एडीजीपी (महिला विरूद्ध अपराध) अजय सिघंल, एडीजीपी ( प्रशासन संचालन) ए.एस. चावला, एडीजीपी(कानून एवं व्यवस्था) नवदीप सिंह विर्क, एडीजीपी(एफएसएल) श्रीकांत जाधव तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुरा छात्र एवं विंध्य गौरव ख्याति समारोह बड़े शानोशौकत से हुआ सम्पन्न

प्रयागराज में युवक की जघन्य हत्या कर शव को शिव मंदिर के समीप फेंका , पुलिस ने शव को लिया अपने कब्जे में