जालौन के ग्राम सैदनगर में अन्ना पशुओं से परेशान किसान

उरई( स्वतंत्र प्रयाग)जालौन गौरतलब है कि जालौन के कोटरा थाना अंतर्गत ग्राम सैदनगर में तीन-तीन गौशालाओं की मंजूरी होने के बावजूद भी किसानों को अन्ना पशुओं से निजात मिलता नहीं दिख रहा है। और पशु आए दिन किसानों की फसलों को चौपट करते दिख रहे हैं। आपको बता दें कि ग्राम सैदनगर के बाशिंदों ने मीडिया का सहारा लेते हुए बताया है कि गांव में अभी तक एक गौशाला बनी है।


और उसमें भी लगभग 50 पशु रखे जाते हैं। जबकि ग्रामीणों के अनुसार पशुओं की संख्या लगभग 500 बताई गई है।ग्रामीणों ने बताया कि अन्य पशुओं के लिए कई बार गांव में मीटिंग की गई। लेकिन पशुओं से निजात मिलता नहीं दिख रहा है। जिसके चलते ग्रामीण किसान खस्ताहाल हालत में जीने को मजबूर हैं।


सैदनगर के किसानों ने शासन प्रशासन से यह उम्मीद रखी है कि किसानों को जल्द से जल्द अन्ना पशुओं से छुटकारा दिलाया जाए। जिससे किसानों को कुछ राहत मिल सके।क्योंकि गौशालाओं के जिम्मेदार जो भी है। उन्हें तो सिर्फ अपनी तिजोरी भरने से मतलब है।


बाकी गौशालाओं में क्या हाल है ये देखने की भी फुरसत नहीं मिलती। फिलहाल गाँव मे दूसरी भी गौशाला बन चुकी है।जो सैदनगर के बीचों बीच गांधी चबूतरा के जस्ट पीछे बनवाई गई है। जिसे बने हुए लगभग पंद्रह दिन बीत गए हैं।जिसमे अभी तक न तो भूसे की व्यवस्था की गई है।


और न ही कोई देखरेख के लिए कर्मचारी रखा गया है। सिर्फ भगवान के भरोसे सैदनगर की नई गौशाला में सारा काम चल रहा है। अब देखने बाली बात तो ये है कि शासन प्रसासन इस मामले को संज्ञान में लेता है या नही।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुरा छात्र एवं विंध्य गौरव ख्याति समारोह बड़े शानोशौकत से हुआ सम्पन्न

प्रयागराज में युवक की जघन्य हत्या कर शव को शिव मंदिर के समीप फेंका , पुलिस ने शव को लिया अपने कब्जे में