अनुसंधान कार्य को बढ़ावा देने के लिये बनेगा एक हजार करोड़ रुपये का कोष   

नई दिल्ली (स्वतंत्र प्रयाग): भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान शोध एवं अनुसंधान कार्य को बढ़ावा देने के लिए अलुमनाई की मदद से अगले वर्ष तक एक हज़ार करोड़ रुपये का कोष बनाएगा।आईआईटी के निदेशक रामगोपाल राव ने 2020 आई टी कोष बनाने के लिए दुनिया भर में फैले पूर्व छात्रों को पत्र लिखा है।


प्रोफसर राव ने इन पूर्व छात्रों को लिखे खुला पत्र में कहा है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 31 अक्टूबर को राष्ट्रपति भवन में इस कोष की स्थापना की घोषणा की थी। यह तय किया गया था कि 2020 तक एक हज़ार करोड़ रुपये का फंड जुटाया जाए और 2025 तक एक अरब डॉलर का कोष बनाया जाए। इसके लिए प्रमुख पूर्व छात्रों से 225 करोड़ रुपये जुटाया जाए।


 
उन्होंने कहा कि दुनिया भर में आई आई टी के 52 हज़ार पूर्व छात्र हैं ज़िनकी मदद से यह देश का पहला ऐसा कोष होगा। इसके जरिए आईआईटी को शोध एवं अनुसंधान में विश्व लीडर बनाया जाएगा। इस कोष में जमा राशि को आयकर से मुक्त रखा जाएगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुरा छात्र एवं विंध्य गौरव ख्याति समारोह बड़े शानोशौकत से हुआ सम्पन्न

प्रयागराज में युवक की जघन्य हत्या कर शव को शिव मंदिर के समीप फेंका , पुलिस ने शव को लिया अपने कब्जे में