UN ने कश्मीर को लेकर चिंता जताई , विदेशी सांसदों के सामने सेना ने खोला पाक का कच्चा चिट्ठा

अंतर्राष्ट्रीय खबर 



 


श्रीनगर (स्वतंत्र प्रयाग): जम्मू-कश्मीर के हालात को जानने के लिए आज यूरोपियन संघ का 27 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल कश्मीर पहुंचा। विदेशी सांसदों के डेलिगेशन ने सेना की 15वीं कोर बटालियन के मुख्यालय का दौरा किया। मीडिया रिपोट्र्स में सूत्रों के मुताबिक कहा जा रहा है कि सेना ने यूरोपीय सांसदों को घाटी में आतंकवाद को बढ़ावा देने में पाकिस्तान की भूमिका से वाकिफ कराया।


विदेशी प्रतिनिधिमंडल ने 15वीं कोर के कमांडर (जनरल ऑफिसर कमांडिंग) लेफ्टिनेंट जनरल के. जी. एस. ढिल्लों से मुलाकात की। इस दौरान सेना सहित अन्य सुरक्षा बलों ने भारत में आतंकवाद के बढ़ावे में पाकिस्तान की भूमिका के बारे में जानकारी दी। सैन्य अधिकारियों ने कश्मीर घाटी में आतंकवाद को बढ़ावा देने में पाकिस्तान की भूमिका और भारत में आतंकियों को भेजने में पाकिस्तानी सेना के रोल के बारे में यूरोपीय सांसदों को विस्तार से जानकारी दी। उधर, संयुक्त राष्ट्र के एक पैनल ने अगस्त में भारत सरकार की तरफ से जम्मू-कश्मीर में विशेष प्रावधान देने वाले अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के बाद वहां की स्थिति को लेकर चिंता जताई है। इसके साथ ही, सरकार से कहा है कि वे वहां पर पूरी तरह से सामान्य स्थिति बहाल करें और लोगों के अधिकार उन्हें वापस दें।संयुक्त राष्ट्र ने यह भी कहा कि कश्मीर में सुधार के लिए भारत ने कई कदम उठाए हैं। मानव अधिकारों के लिए संयुक्त राष्ट्र के उच्चायुक्त के प्रवक्ता रूपर्ट कोल्विले ने कहा कि हम बहुत चिंतित हैं कि कश्मीर में लोग अधिकारों से वंचित हैं, हम भारत से अधिकारों को पूरी तरह से बहाल करने की अपील करते हैं।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिलाधिकारी ने विकास खण्ड करछना, मेजा एवं कोरांव में आयोजित गरीब कल्याण मेले में पहुंचकर विभिन्न विभागों के द्वारा लगाये गये स्टाॅलों का किया अवलोकन

विभिन्न आयु वर्गो हेतु चयन ट्रायल 15 अगस्त को

जिलाधिकारी ने थाना मऊ में समाधान दिवस के अवसर पर सुनी जनता की समस्यायें