हमने नाकाम की चोर दरवाजे से मुंबई पर कब्जे की साजिश :-रविशंकर प्रसाद

 नई दिल्ली (स्वतंत्र प्रयाग) : बिना केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक बुलाए महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन हटाए जाने को लेकर उठ रही आपत्तियों के बीच सरकार ने स्पष्ट किया है कि इसमें संवैधानिक औपचारिकताओं का पूरी तरह से पालन किया गया है और यह कदम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अपने विशिष्ट अधिकारों का प्रयोग किये जाने के बाद उठाया गया है।



केन्द्रीय विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन हटाए जाने को लेकर केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक कोई विवरण नहीं देते हुए शनिवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री ने राज्य में स्थायी सरकार देने के लिए अपने विशेष अधिकारों का प्रयोग किया है। प्रसाद ने कांग्रेस, शिवसेना एवं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार पर पलटवार करते हुए कहा, आपको बुलाया जाये तो आप दावा करेंगे नहीं, कोई लिखित अनुरोध करेंगे नहीं और समय पर समय मांगा जाये तो क्या एक बड़ा राज्य ऐसे ही चलता रहे? उन्होंने सवाल किया, क्या शरद पवार, कांग्रेस, शिवसेना का क्या कोई दावा राज्यपाल के पास लंबित था।


उन्होंने कहा कि स्वार्थ के लिए 30 साल की दोस्ती को शिवसेना ने स्वार्थ के लिए तोड़ दिया और ये चोर दरवाजे से वित्तीय राजधानी पर कब्जा करने की साजिश थी जिसे भाजपा ने नाकाम किया। 



उन्होंने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि प्रधानमंत्री में मंत्रिमंडल का अधिकार निहित होता है। भारत सरकार के नियमावली में नियम संख्या 12 के तहत प्रधानमंत्री को विशिष्ट परिस्थितियों में मंत्रिमंडल की ओर से खुद फैसला करने का अधिकार होता है और बाद में मंत्रिमंडल की बैठक में उसकी स्वीकृति हासिल की जाती है।


महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन समाप्त करने के लिए इसी नियम का प्रयोग किया गया था। प्रसाद ने यह स्पष्टीकरण कांग्रेस की ओर से उठाये गये इस प्रश्न पर दिया कि राष्ट्रपति शासन हटाने का निर्णय लेने के लिए केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक कब हुई।


रविशंकर प्रसादविधि मंत्री ने राज्यपाल द्वारा शपथ दिलाने के फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि राज्यपाल ने पहले तीनों पक्षों को बुलाया था। मगर किसी ने किसी ने दावा नहीं किया था। इतने दिन हो गये थे।


उनके सामने आज सुबह जब भाजपा का दावा पेश किया गया तो उस समय कांग्रेस-शिवसेना-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के गठजोड़ का कोई अन्य दावा विचाराधीन नहीं था। यह दावा दोनों पार्टियों के विधायक दल के नेताओं ने अपने विधायकों के हस्ताक्षर वाले समर्थन पत्र के साथ पेश किया था। इसलिए संदेह का प्रश्न नहीं था।


गृह मंत्रालय की ओर से शनिवार तड़के जारी अधिसूचना में कहा गया कि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की रिपोर्ट के आधार पर सरकार की अनुशंसा पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्य में लागू राष्ट्रपति शासन हटाने की मंजूरी दे दी है।उल्लेखनीय है कि राज्य में चुनाव प्रक्रिया पूरी होने के बाद भी नई सरकार का गठन नहीं होने के मद्देनजर कोविंद ने गत 12 नवंबर को वहां छह महीने के लिए राष्ट्रपति शासन लगाने की घोषणा की थी।


पिछले कुछ दिनों से वहां शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस तीनों पार्टी मिलकर सरकार बनाने की कवायद में जुटी थी और इनके बीच लगभग सहमति भी बन गयी थी। महाराष्ट्र में शुक्रवार रातोंरात बदले राजनीतिक घटनाक्रम में सुबह आठ बजे श्री फडऩवीस ने राज्य के नये मुख्यमंत्री और श्री पवार ने नये उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुरा छात्र एवं विंध्य गौरव ख्याति समारोह बड़े शानोशौकत से हुआ सम्पन्न

प्रयागराज में युवक की जघन्य हत्या कर शव को शिव मंदिर के समीप फेंका , पुलिस ने शव को लिया अपने कब्जे में